Printed Circuit Boards(PCB) क्या होता है ?

हेल्लो फ्रेंड्स क्या आप Printed Circuit Boards(PCB) क्या होता है ?के बारे में जानते है ।यदि आप टेक्नोलॉजी या इससे रिलेटेड जानकारी में इंटरेस्ट रखते है तो आपको पता होगा ,लेकिन आपको नही पता है तो कोई बात नही है। आज के पोस्ट में हमलोग  टेक्नोलॉजी से रिलेटेड टॉपिक Printed Circuit Boards(PCB) के बारे में  जानने वाले हैं ।
PCB क्या होता है?
Printed Circuit Boards(PCB) क्या होता है?

PCB की जरुरत क्यों पड़ी ,इसके आने से इंडस्ट्री और इलेक्ट्रिक devices में क्या नया हुआ ,आज की जितनी भी इलेक्ट्रिक devices को छोटा से छोटा क्यूँ बानाने की कोसिस किया जा रहा है। यह सब कैसे पॉसिबल है? फ्रेंड्स अगर पहले की बात करे तो, एक ऐसा समय था जब हमलोग मोटी मोटी तारो वाला बड़े बड़े कंप्यूटर , एक इलेक्ट्रिक devices में ढेर सारी तारे और बहुत वजन वाला टेलीविज़न जैसे devices को यूज़ किया जाता था ,लेकिन आज की बात करे तो स्लिम और बहुत  ही attractive जैसा दिखने वाले devices बनाये जा रहे है जो लोगो को द्वारा बहुत पसंद किये जा रहें है ,यह सब कैसे पॉसिबल हो रहा है। टेलीविज़न  की ही बात करे तो पहले बडा-बड़ा टेलीविज़न हमलोग उपयोग करते थे ,जिसे एक जगह से दुसरे जगह ले जाने के लिए हमलोग को थोरा परेशानी होता था , उसको रखने के लिए हमलोग को स्पेशल एक  टेबल खरीदना पड़ता था but अब ऐसा नही हैं। अब की टीवी बहुत ही स्लिम और पतला आता है,जो एलसीडी के नाम से जाना जाता हैं।  जिसे हमलोग अपने कमरे के दिवार में सेटअप कर देते है और इसका मजा लेते है ,यह सब कैसे इतना बदला । मैं  सिर्फ  TV की बात नही कर रहा हूँ ,यह एक उदहरण है और भी बहुत सारे ऐसे इलेक्ट्रिक devices है जो पहले बड़े-बड़े होते थे लेकिन आज  वही devices छोटे कर दिए गए  है ।आज के पोस्ट में यह सब की जानकारी शेयर करने वाला हूँ ।

Printed Circuit Boards(PCB) क्या होता है ?

PCB  का पूरा नाम  Printed Circuit Boardsहोता है। यह एक ऐसा बोर्ड होता है जो internaly कॉपर,सिल्वर से प्रिंट सर्किट होता है , जिस जिसपर बहुत सारी छोटा छोटा इलेक्ट्रिक कॉम्पोनेन्ट लगा रहता है जिससे बोर्ड में बहुत सारी वायर की जरुरत नही पड़ती है ।  हमलोगों के घर में ऐसे बहुत सारी ख़राब मोबाइल चार्जर या ख़राब इलेक्ट्रिक devices पड़ी रहती है ,जब ख़राब इलेक्ट्रिक devices को  खोलते है तो  आप  पायेंगे की एक ग्रीन,पिला जैसे दिखने वाला  शीट होता है ,जिसपे बहुत सारे इलेक्ट्रिक कॉम्पोनेन्ट को अच्छे से अरेंजमेंट करके शोल्ड़ेरिंग किया हुवा रहता है ,वैसे ही शीट को हमलोग PCB के नाम से जानते है । यदि PCB टेक्नोलॉजी नही आता तो इलेक्ट्रिक devices को बनाने में बहुत सारी वायर का अरेंजमेंट करना पड़ता ,जिससे यदि एक भी वायर में शोर्ट होता तो उस शोर्ट को खोजने में बहुत परेशानी होती ,लेकिन PCB में ऐसा नही है इसमे हमलोग आसानी से किसी भी फोल्ट को खोज लेते है । यही कारन है की आज के बहुत सारी इलेक्ट्रिक devices स्लिम और छोटा होते जा रहा है ,जिससे इसे कही भी आसानी से ले जाया जा सकता है । यदि कंप्यूटर की बात करे तो पहले डेस्कटॉप आता था ,जिसको मिनीमाइज करके लैपटॉप में बदल  दिया गया ये सब PCB का ही कमाल है।

PCB को कैसे तैयार किये जाते है ?
PCB को बनाने में जो भी मेटेरिअल  यूज़ होता है जिसमे मुख्य रूप से गिलास फाइबर ,कॉपर,और केमिकल का इस्तेमाल किया जाता है । सिम्पली समझे तो गिलास फाइबर का शीट होता है जो insulator(electric) होता है  उसपे कॉपर का परत को चढाया जाता है, अपने डिजायर सर्किट स्ट्रक्चर के अनुसार बाकि कॉपर को केमिकल प्रोसेस करके हटा दिए जाते है ,और जो बचाता है उसे हमलोग PCB  कहते है।फ्रेंड्स इसे इतना आसान नही समझे और भी बहुत सारी प्रोसेस होता है । कुछ ऐसे PCB होतो जो सिग्गल लेयर के बने होते है कुछ मल्टीप्ल लेयर के बने होते है मेरे कहने का मतलब है की जैसा हमलोगों को जरुरत पड़ता है वैसा PCB का उत्पादन किया जाता है और इलेक्ट्रिक devices बनाया जाता है ।

PCB के क्या लाभ है ?
⧫  इसके आने से  इलेक्ट्रिसिटी   का  बचत होता है ,मतलब  इसमें बहुत  सारे वायर का इस्तेमाल नही होता है ,जिससे इलेक्ट्रिकल एनर्जी का सेविंग होता है ।
⧫   इलेक्ट्रिकल फोल्ट को आसानी से diagnost किया जा सकता है ,मतलब यदि कोई भी इलेक्ट्रिकल  कॉम्पोनेन्ट जो PCB पे लगा होता है यदि ख़राब हो जाता है तो उसें  रिप्लेस करना आसन होता है ।
⧫  इसका कनेक्शन इतना अच्छा होता है की हिलाने या डुलने के बावजूद भी कोई शोर्ट सर्किट नही होता है ,जो बहुत अच्छी बात है ।
⧫ device की छमता अच्छा होता हैं  और लम्बे टाइम तक टिकाऊ होता है ।
⧫  यह सर्किट और device  को बनाने में समय को सेव करता है ।
तो दोस्तों आजके पोस्ट में हमलोग जाना की Printed Circuit Boards(PCB) क्या होता है ? इसके लाभ क्या होता हैं और ये कैसे बनाये जाते है ।

Previous
Next Post »